Buy My Book

Wednesday, December 3, 2014

चित्रकोट जलप्रपात- अथाह जलराशि

इस यात्रा-वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
चित्रधारा से निकले तो सीधे चित्रकोट जाकर ही रुके। जगदलपुर से ही हम इन्द्रावती नदी के लगभग समान्तर चले आ रहे थे। चित्रकोट से करीब दो तीन किलोमीटर पहले से यह नदी दिखने भी लगती है। मानसून का शुरूआती चरण होने के बावजूद भी इसमें खूब पानी था।
इस जलप्रपात को भारत का नियाग्रा भी कहा जाता है। और वास्तव में है भी ऐसा ही। प्रामाणिक आंकडे तो मुझे नहीं पता लेकिन मानसून में इसकी चौडाई बहुत ज्यादा बढ जाती है। अभी मानसून ढंग से शुरू भी नहीं हुआ था और इसकी चौडाई और जलराशि देख-देखकर आंखें फटी जा रही थीं। हालांकि पानी बिल्कुल गन्दला था- बारिश के कारण।
मोटरसाइकिल एक तरफ खडी की। सामने ही छत्तीसगढ पर्यटन का विश्रामगृह था। विश्रामगृह के ज्यादातर कमरों की खिडकियों से यह विशाल जलराशि करीब सौ फीट की ऊंचाई से नीचे गिरती दिखती है। मोटरसाइकिल खडी करके हम प्रपात के पास चले गये। जितना पास जाते, उतने ही रोंगटे खडे होने लगते। कभी नहीं सोचा था कि इतना पानी भी कहीं गिर सकता है। जहां हम खडे थे, कुछ दिन बाद पानी यहां तक भी आ जायेगा और प्रपात की चौडाई और भी बढ जायेगी।

ऊपर खडे होकर जब खूब देख लिया तो नीचे जाने की इच्छा हुई। नीचे उतरने का रास्ता विश्रामगृह के पीछे से जाता है। खूब सीढियां थीं, सभी की सभी गीली और फिसलन भरी। किसी तरह संभलकर नीचे उतरे। कुछ दूर पैदल चले और तब सामने था चित्रकोट प्रपात एक अलग ही रूप में। जहां ऊपर से नीचे गिरता पानी खूब गर्जना करता है, वहीं गिरने के बाद यह बिल्कुल शान्त हो जाता है। जैसे कुछ हुआ ही न हो। इसी शान्त पानी की एक छोटी सी झील बन गई है। मानसून न होता तो नाववाले प्रपात के बिल्कुल नीचे तक ले जाते हैं। आने से पहले सुनील जी ने कहा भी था कि नाव में बैठकर प्रपात के नीचे पहुंचेंगे। मैं तभी डर गया था। शुक्र था कि अब नावें नहीं चल रही थीं, अन्यथा सुनील जी फिर कहते।
जलप्रपात ऐसी चीज है जिसे कितना भी देखते रहो, मन कभी नहीं भरता। और अगर वो भारत का सबसे बडा जलप्रपात हो, तो फिर क्या कहने! लेकिन कभी तो यहां से भी चलना था। चलने से पहले कुछ देर उछल-कूद भी की जिसे हम जैसे लोग ‘डांस’ कहते हैं। डांस की वीडियो बनाई थी। दुर्भाग्य से अब वह वीडियो मेरे पास नहीं रही।





10. चित्रकोट प्रपात- अथाह जलराशि

54 comments:

  1. जल प्रपात और सीढियाँ दोनो बहुत ही खूबसूरत हैं, अथाह जलराशी देखना सच में रोमांचकारी होता है|

    ReplyDelete
  2. वाकई काफी खूबसूरत हैं। फोटो भी काफी अच्छे आए हैं।
    आपकी बाईक वाली यात्रा का इंतज़ार हैं।

    ReplyDelete
  3. Neeraj bhai aapke post par kya kaha ja sakta hai shabd hi nahin mil paate ...... bas bahut shandaar lekhan hai aapka or photo lene me to maharat haasil hai bhai

    ReplyDelete
  4. नीरज भाई आपने बहुत ही खूबसूरत शैली में यात्रा वृतांत लिखा है ,बधाई फोटो तो लाजवाब हैं ,हमारे उस विशेष "डांस " की विडियो मेरे पास है आप चाहें तो मैं उपलब्ध करा दूंगा |

    ReplyDelete
    Replies
    1. रहने दो सर जी... या फिर चाहो तो यू-ट्यूब पर अपलोड करके लिंक भेज दो।

      Delete
  5. फोटो बहुत सुन्दर खींचे हैं , आखिरी दो फोटो तो अति सुन्दर हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद वशिष्ठ साहब...

      Delete
  6. भारत के सबसे बड़े प्रपात के बारे में जानकर अच्छा लगा.... |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रीतेश भाई...

      Delete
  7. Sachmuch Doodhsagar ki yaad dila di

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर जी, दूधसागर अलग चीज है, चित्रकोट अलग चीज है। फिर भी दोनों लाजवाब हैं। धन्यवाद आपका।

      Delete
  8. वाह ..सच में मन भीग गया इस जल प्रपात को देख कर ..वहाँ जाने की इच्छा हो रही अब तो |

    ReplyDelete
    Replies
    1. चले जाओ... लेकिन जाना मानसून में ही।

      Delete
  9. Beautiful and thanks for the sharing too !

    ReplyDelete
  10. neeraj bhai aapko india ke tourism department ka brand ambassador bana dena chahiye.........................

    ReplyDelete
  11. पानी की बूँदें महसूस कर रहा हूँ .........धन्यवाद इसके लिये.......

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भदौरिया साहब...

      Delete
  12. Barsur ka intezzar hair .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको कैसे पता इसके बाद हम बारसूर गये थे?

      Delete
  13. बेहतरीन जल प्रताप की कुशल फोटोग्राफर द्वारा लाजबाब फोटोग्राफी। स्पेशल डांस की वीडियो मिले तो शेयर जरूर करना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह विनय जी वाह! वीडियो के लिये कह तो दिया है, देखते हैं कब तक मिलती है।

      Delete
  14. नीरज भाई............जबरदस्त.............फोटो तो बहुत लाजबाब है.................................

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सिन्हा साहब...

      Delete
  15. बहुत ही सुन्दर जगह है ..... आपकी जितनी तारीफ़ की जाए कम है ..... केमरा भी आपकी नजर की खूबसूरत बयान कर रहा है ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अर्चना जी...

      Delete
  16. Adbhut, adbhutam, adbhutas.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद चन्द्रेश भाई...

      Delete
  17. नीरज जी हमेशा की तरह बहुत ही सजीव वर्णन जितना तारीफ की जाए उतना ही कम

    ReplyDelete
  18. Replies
    1. धन्यवाद देवेन्द्र जी...

      Delete
  19. Neeraj bhai.......
    Wakai ise dekhna ..apne aap me romanchit karta hai....lajawab photo....

    Ranjit.....

    ReplyDelete
  20. सर, ये तो नियाग्रा फॉल का आयना हैl

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां जी, भारतीय नियाग्रा...

      Delete
  21. sabhi picture bahut hi aachi lagi jankari ke liye dhanyawad........

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद तिवारी साहब...

      Delete
  22. khoobsurat khoobsurat ...................................aur khoobsurat

    ReplyDelete
  23. JABALPUR KE BHEDA GHAT KA PRAPAT BHI KUCCH KUCCH AISA HI HAI. VAHAN NARMADA NADI PRAPAT KE ROOP MEIN GIRATI HAI.

    RAJESH GOYAL
    GHAZIABAD

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां जी, बिल्कुल। लेकिन चित्रकोट का कोई सानी नहीं है।

      Delete
  24. बेहतरीन फोटों मे भी बेहतरीन फोटों। गज़ब अजब लाजबाब और मनमोहक फोटों। फोटों का कोई जबाब नहीं।

    ReplyDelete
  25. नीरज भाई हमने इतना बडा झरना नही देखा,पर जितने देखे उनकी पानी की घडघडाहट की आवाज को सूना...
    बडी ही तेज आवाज,दूर से ही अन्दाजा हो जाता है की यहा कोई जल प्रपात है,
    यह तो बहुत ही विशाल झरना है,यह तो बहुत शोर करता होगा,ओर यह बहुत ही मन मोहने वाली आवाज जान पडती होगी,इसे देखने के लिए आप जैसे घुम्मकड भी उतावला हो गया होगा,वह क्षण केवल आप ही महसूस कर सकते है,

    ReplyDelete
  26. इतनी सुन्दर जगह हमारे देश में है और मुझे पता ही नहीं उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ---जरूर देखना चाहुंगी ---थैंक्स नीरज

    ReplyDelete
  27. Neeraj ji itna bataane or ghumaane ke lie aapka bahut bahut dhanyawad.

    ReplyDelete