Buy My Book

Thursday, February 17, 2011

जयपुर की शान हवामहल

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
जयपुर यात्रा के दूसरे दिन का हमारा कार्यक्रम था- हवामहल और आसपास की जगहें देखना। लेकिन जब सुबह सोकर उठे तो दिन सिर के ऊपर आने को था। फटाफट नहाये, कपडे पहने और सीधे हवामहल की ओर निकल पडे।

बडी चौपड स्थित हवामहल का निर्माण जयपुर के महाराजा सवाई प्रताप सिंह (1778-1803 ई.) ने 1799 ई. में करवाया था। इसके वास्तुकार उस्ताद लालचन्द थे। इस दो चौक की पांच मंजिली इमारत के प्रथम तल पर शरद ऋतु के उत्सव मनाये जाते थे। दूसरी मंजिल जडाई के काम से सजी है इसलिये इसे रतन मन्दिर कहते हैं। तीसरी मंजिल विचित्र मन्दिर में महाराजा अपने आराध्य श्रीकृष्ण की पूजा-आराधना करते थे। चौथी मंजिल प्रकाश मन्दिर है और पांचवीं हवा मन्दिर जिसके कारण यह महल हवामहल कहलाता है। यदि सिरह ड्योढी बाजार में खडे होकर देखें तो हवामहल की आकृति श्रीकृष्ण के मुकुट के समान दिखती है, जैसा कि महाराजा प्रताप सिंह इसे बनवाना चाहते थे।
हवामहल में 365 खिडकियां व झरोखे हैं।










झरोखों से बाजार का दृश्य




हवामहल से दिखता नाहरगढ किला
जंतर मंतर भी हवामहल के पास ही है

यह ऊपर से काफी संकरा है।

पर्यटकों के लिये जयपुर मस्त जगह है



अगला भाग: जयपुर का जंतर मंतर


जयपुर यात्रा
1. जयपुर यात्रा-आमेर किला
2. जयपुर की शान हवामहल
3. जयपुर का जन्तर मन्तर
4. सिटी पैलेस, जयपुर
5. नाहरगढ किला, जयपुर

19 comments:

  1. आपका ब्लॉग काफी उपयोगी जानकारी वाला है। जब कहीं जाना होगा इसे खूब देखकर जायेंगे। घूमते-घूमते साइबर में घुसकर, ब्लॉग देखकर यह भी जाना सकता है कि कुछ छूटा तो नहीं। गाइड का साथ अच्छा ही साबित होता है।

    ReplyDelete
  2. नीरज जी,खूब हवा खिला दी आपने हवा-महल की --हवा-महल बनाने का मकसद ही यही था -राजस्थान में गर्मी बहुत पड़ती हे--इसलिए यह महल बनवाया गया --गर्मी के दिनों में सवाई राजा यही रहा करते थे |

    ReplyDelete
  3. हम भी ५ तारीख को जयपुर में थे.. मस्त जगह है...

    ReplyDelete
  4. जाट भाई बहुत पसंद आयी आप की यह यात्रा, बस हमे अगली बार जब भी राजस्थान जाना होगा तो घुमक्क्डी गाईड जिन्दा वाद, साथ नही चलो गे तो बांध कर ले जायेगे, चित्र सभी एक से बढ कर एक, एक काम करो कम से कम समय यानि मोसम के बारे जरुर लिखा करो कि किस मोसम मे हम यहां घुम सकते हे, ओर गर्मी सर्दी केसी होती हे वहां

    ReplyDelete
    Replies
    1. JAIPUR GHUMNE KE LIYE FEBURARY ,MARCH OR SE[PTEMBER OCTOBER BEST HE ,BAKI AAJ KAL TO KABHI BHI GHUM SAKTE HE

      Delete
  5. बहुत खूब नीरज भाई , मुझे भी बहुत साल हो गए यहाँ गए हुए ! आज एक सवाल आपसे ; आप भारत भ्रमण करते हो , ये बताओ लंका कहा पड़ती है ? :)

    ReplyDelete
  6. यादें ताजा हो गई
    धन्यवाद इस पोस्ट के लिये
    प्रणाम

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चित्र और वर्णन भी।

    ReplyDelete
  8. athato ghumakkad jigyasa. gumakadi ko salam...........

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर चित्र हैं, अनेकों बार हवामहल के पास से गुजरने के बावजूद रुबरू कभी इतना नही देख पाये जितना आज देख लियी. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. आपके सुन्दर चित्रों ने हवामहल की यादे ताजा करदी

    ReplyDelete
  11. नीरज भाई ,
    जयपुर जाने कित्ती ही बार गए हैं , मगर ऐसे तो आज तक न घूमे

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया. चकाचक तस्वीरें हैं.

    ReplyDelete
  13. मैने हवा महल की खिडकियां गिन रखी है ३६५ सही लिखा है लंका का राज मैं जानता हूं

    ReplyDelete
  14. भाई फोटू तो गज़ब के हैं और जयपुर की याद आ गायी सो अलग...
    नीरज

    ReplyDelete
  15. Nahargarh ke kile se sunset bahut acha dikhta hai agar thoda piche wale restaurant ke taraf jaayen tou.

    ReplyDelete