Buy My Book

Wednesday, October 27, 2010

सोनमर्ग में खच्चरसवारी

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
जब जुलाई में हम छह जने अमरनाथ गये थे, तो वापसी बालटाल के रास्ते से की। बालटाल से आठ किलोमीटर श्रीनगर की ओर चलने पर सोनमर्ग आता है। यात्रा करते-करते हम सभी इतने थक गये थे कि सोनमर्ग से आगे बढ ही नहीं पाये। पच्चीस सौ रुपये में एक कमरा ले लिया। तीन तो फैल गये डबलबैड पर और बाकी तीन अतिरिक्त गद्दे बिछवाकर नीचे सो गये। सुबह आराम से उठे। उठते ही एक खबर मिली कि श्रीनगर में पिछले पन्द्रह दिनों से लगा कर्फ्यू हट गया है। अब हमारे योजनाकर्त्ताओं के दिमाग में केवल एक बात जरूर भर गयी कि आज रात श्रीनगर में हाउसबोट में ही काटेंगे। सोनमर्ग से श्रीनगर की दूरी लगभग अस्सी किलोमीटर है। यानी ढाई-तीन घण्टे लगेंगे। इसलिये आज यहां से दोपहर बाद चलेंगे। दोपहर तक घुडसवारी करते हैं।
नहा-धोकर खा-पीकर हम घोडों की खोज में चले। यहां हर होटल के पास घुडसवारी कराने वाले स्थानीय लोगों की भीड लगी रहती है। लेकिन इस होटल के पास घोडे वाले नहीं थे, खच्चर वाले थे। इसलिये तय हुआ कि खच्चरसवारी ही कर लेंगे। मौके पर किसी बात पर मनदीप और कालू की तनातनी गयी। गुस्से में आकर कालू कहने लगा कि मैं नहीं करूंगा घुडसवारी, तुम ही कर लो। जब मूड खराब हो जाता है तो इस तरह से एंजोय करने का मन भी नहीं करता। इसलिये मनदीप भी कहने लगा कि मैं भी नहीं जाऊंगा। कालू बोला कि तू नहीं जायेगा? मनदीप- नहीं। कालू- ठीक है, मत जा। मैं चला जाता हूं। और हंसने लगा। सबने मनदीप से खूब कहा लेकिन वो टस से मस नहीं हुआ।
आखिरकार चार जने घुडसवारी करने गये। मैं, कालू, धरमबीर और बिल्लू। हमारा मूड देखते ही खच्चर वाले भिड पडे कि इन्हें मैं ले जाऊंगा, मैं ले जाऊंगा। वे भी बेचारे क्या करें। एक यही यात्रा सीजन होता है जिसमें उन्हें साल भर में सबसे ज्यादा ग्राहक मिलते हैं। यही से उन्हें अपने परिवार की साल भर की कमाई निकालनी होती है। छह सौ रुपये प्रति सवारी से शुरू करके घटते-घटते ढाई सौ रुपये पर आ गये।
मैं जिन्दगी में पहली बार खच्चर पर बैठा था, इसलिये शुरू-शुरू में डर लगा। उधर खच्चर भी खेले-खाये थे। उन्हें पता था कि किस रास्ते से जाना है, कहां तक जाना है। हमारे चारों खच्चरों के नाम रखे हुए थे- बिजली, बादल, खली और मोटर। मेरे वाला खच्चर मोटर कुछ ऐबदार था। दूसरों को टक्कर मारकर उन्हें पीछे या इधर-उधर कर देता और खुद आगे-आगे चलता। उसकी इस हरकत से मेरी हालत खराब थी।

SONMARG 1
यहां से खच्चरसवारी शुरू होती है।

SONMARG 2
लीडर कालू था। इसलिये उसे सफेद खच्चर दिया गया।

SONMARG 3
SONMARG 4
यह मुसाफिर जाट भी मस्ती में था।

SONMARG 5
SONMARG 6
SONMARG 7
यहां पर सत्ते पे सत्ता फिल्म की शूटिंग हुई थी। यह बात खच्चर वाले ने बताई थी। वैसे उसने यह भी बताया था कि यहां पर राम तेरी गंगा मैली की भी शूटिंग हुई थी, लेकिन हमारे निर्णयकर्ताओं ने उसे खारिज कर दिया। बोले कि उसकी शूटिंग तो उत्तरकाशी और गंगोत्री के बीच में हुई थी।

SONMARG 8
SONMARG 9
SONMARG 10
SONMARG 11
SONMARG 12
ये लोग बडे ही मद्धम स्वर में कहते हैं कि साब, फोटो खिंचवा लो। कश्मीर में कुछ लोगों की अलगाववादी मानसिकता के कारण इन लोगों को बडी दिक्कत हो रही है। सारी कमाई बन्द हो गयी है। यहां के स्थानीय लोग खूब कहते हैं कि कश्मीर का भला भारत में रहने से ही है, ना कि अलग होने से या पाकिस्तान में चले जाने से।

SONMARG 13
SONMARG 14
SONMARG 15
SONMARG 16
SONMARG 17
SONMARG 18
लगभग चार-पांच किलोमीटर दूर यहां कुछ ढाबे हैं। यहां तक या तो पैदल चले आओ, या खच्चर-घोडे पर और थाजीवास ग्लेशियर के नीचे बैठकर चाय-नाश्ता कर सकते हैं।

SONMARG 19
एक ढाबे वाला खान हुक्का पी रहा था। इस देशियों को भी तलब लगनी ही थी। हां, यह हुक्का सेवा फ्री में मिल गयी।

SONMARG 20
वापस चलते हैं।

SONMARG 21
SONMARG 22
SONMARG 23
SONMARG 24
SONMARG 25

हां तो, यह थी हमारी छोटी सी सोनमर्ग यात्रा। जितना भी आज तक हिमालय क्षेत्र में घूम चुका हूं, यह जगह सबसे मनमोहक लगी। पूरा कश्मीर ही किसी स्विट्जरलैण्ड से कम नहीं है, बशर्ते शान्ति हो।

अगला भाग: सोनमर्ग से श्रीनगर तक


अमरनाथ यात्रा
1. अमरनाथ यात्रा
2. पहलगाम- अमरनाथ यात्रा का आधार स्थल
3. पहलगाम से पिस्सू घाटी
4. अमरनाथ यात्रा- पिस्सू घाटी से शेषनाग
5. शेषनाग झील
6. अमरनाथ यात्रा- महागुनस चोटी
7. पौषपत्री का शानदार भण्डारा
8. पंचतरणी- यात्रा की सुन्दरतम जगह
9. श्री अमरनाथ दर्शन
10. अमरनाथ से बालटाल
11. सोनामार्ग (सोनमर्ग) के नजारे
12. सोनमर्ग में खच्चरसवारी
13. सोनमर्ग से श्रीनगर तक
14. श्रीनगर में डल झील
15. पटनीटॉप में एक घण्टा

23 comments:

  1. घुमक्कडी जिन्दाबाद

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती को बहुत सुन्दर कैद किया है

    ReplyDelete
  3. neeraj jaat ji..
    aapki yatraye dekhe kar to man karta hai..
    aapke sath ek lambi yatra ki jaye......

    ReplyDelete
  4. गज़ब की यात्रा, खूबसूरत चित्र!

    ReplyDelete
  5. दृश्य देखकर मन प्रसन्न हो गया।

    ReplyDelete
  6. बेहद सुन्दर चित्र और यात्रा विवरण.

    ReplyDelete
  7. excellent stuff...
    its always refreshing to read your blog...

    ReplyDelete
  8. Beautiful, charming , marvellous, fabulous ,breathtaking, mindblowing indeed !

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरत तस्वीरों के लिये और सोनमर्ग की सैर कराने के लिये धन्यवाद

    यानि स्विट्जरलैंड भी घूम चुके हो!!! वाह

    प्रणाम

    ReplyDelete
  10. नयनाभिराम चित्र...आँखें तृप्त हुईं...

    नीरज

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर जी चित्र तो बहुत ही सुंदर लगे, मस्त जी. धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. सैर कराने के लिये धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. जिओ!! बेहतरीन...यह सही कहा कि पूरा कश्मीर ही किसी स्विट्जरलैण्ड से कम नहीं है, बशर्ते शान्ति हो।

    ReplyDelete
  14. वाह नीरज भैया.... खूब घूम रहे हैं.... सभी फोटो मुझे बहुत अच्छे लगे....

    ReplyDelete
  15. आपके द्वारा लिये गए चित्रों की जितनी तारीफ़ की जाए उतनी कम है |

    ReplyDelete
  16. खूब आनन्द लो गधे की सवारी का बहुत बहुत आशीर्वाद। सुन्दर पोस्ट।

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया हम भी कार्यक्रम बनाते हैं इधर जाने का...

    ReplyDelete
  18. वाह वाह .....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. Bahut hi sundar yaatra aur laajawab tasveer... man ko behad achha laga.... aabhar

    ReplyDelete
  20. दोस्त नीरज कश्मीर तो बहुत ही सुन्दर और रंगीन है पर कुछ ब्लैक एँड व्हाइट भी था
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ब्लैक था कालू
    एँड
    व्हाइट था कालू का खिच्चर

    ReplyDelete