Buy My Book

Wednesday, July 14, 2010

मणिकर्ण में ठण्डी गुफा और गर्म गुफा

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
मणिकर्ण में दो गुफाएं प्रसिद्ध हैं। एक तो है ठण्डी और दूसरी गर्म गुफा। ठण्डी गुफा मणिकर्ण से लगभग पांच किलोमीटर ऊपर है।
असल में हुआ ये कि कहीं सही सी जगह ढूंढता-ढूंढता मैं ठण्डी गुफा जाने वाले रास्ते के पास एक पत्थर पर बैठ गया। बाजार से गुजरते समय एक किताब खरीद ली थी- मणिकर्ण के बारे में। पत्थर पर बैठा बैठा किताब पढने लगा। उस समय मुझे ये नहीं पता था कि यह रास्ता जाता कहां है। कोई लम्बा-चौडा रास्ता नहीं था, बस ऐसे ही पगडण्डी सी बनी है। मैने गौर किया कि इस रास्ते से लोगों का आना-जाना लगा है। एक से पूछा तो उसने बताया कि यह रास्ता ठण्डी गुफा जाता है। कितनी दूर है? बस एक-डेढ किलोमीटर है। चलो, निकल चलो। चढना शुरू किया।

बताया तो था कि एक-डेढ किलोमीटर दूर है, लेकिन आधा घण्टा हो गया लगातार चढते-चढते, कहीं मन्जिल ही नहीं दिखी। किसी आते हुए से पूछो तो बताता कि बस जरा सा और है। खैर, चित्र देखिये:

MANIKARAN
यहां से होती है शुरूआत

MANIKARAN
फोटो खुद ही खींच लेते हैं

MANIKARAN
जैसे-जैसे ऊपर चढते जाते हैं, मणिकर्ण छोटा होता जाता है।

MANIKARAN
यह रास्ता जाता है ठण्डी गुफा को

MANIKARAN
पार्वती घाटी दूर-दूर तक दिखने लगती है।

MANIKARAN
अरे भाई, अभी कितना दूर है? बस जरा सा ही है।

MANIKARAN
कमाल है, लोग इतना ऊपर कैसे रह लेते हैं। नया बना घर है। ईंटों का बना है। कमाल है।

MANIKARAN
यह एक गुरुद्वारा है। इसमें लंगर का भी प्रबन्ध है। और हां, इसमें केवल एक ही भाई रहता है, जो गुरुद्वारे के प्रबन्ध के साथ-साथ लंगर का भी प्रबन्ध करता है।

MANIKARAN
सामने ठण्डी गुफा का द्वार दिख रहा है। वैसे असल में अन्दर कोई मन्दिर नहीं है, ना ही कोई पुजारी है। चप्पल-जूते पहनकर भी जा सकते हैं, बल्कि जूते पहनकर ही जाना चाहिये।

MANIKARAN
ठण्डी गुफा में ठण्डक लेते हुए। यहां हवा बडी तेज लगती है। दो तरफ से खुली हुई गुफा है।

MANIKARAN
दूर जो बर्फीले पहाड दिख रहे हैं, उनके उस पार लाहौल-स्पीति का इलाका है।

MANIKARAN
यह मणिकर्ण का सैटेलाइट दृश्य नहीं है, बल्कि ठण्डी गुफा से खींचा गया चित्र है।

MANIKARAN
इतनी कठिन चढाई में महिलायें भी पीछे नहीं हैं। यह आकर्षण उस गुरुद्वारे की वजह से है। नीचे एक परिवार उसी रास्ते पर था, दो बुजुर्ग भी थे। बुजुर्गों ने मुझसे पूछा कि ऊपर क्या है? मैने बताया कि एक गुरुद्वारा है। तो झट से बोले कि चलो, गुरुद्वारा ही तो है। मत्था टेकके आयेंगे।

MANIKARAN
मणिकर्ण
MANIKARAN
पता नहीं ये पहाडी यहां कैसे रह लेते हैं?

MANIKARAN
यह क्या है?

MANIKARAN
मणिकर्ण

MANIKARAN
गर्म गुफा

MANIKARAN
गर्म गुफा का प्रवेश द्वार

MANIKARAN
गर्म गुफा में गर्मी लेते लोग।
गर्म गुफा मणिकर्ण में ही लंगर भवन के नीचे है। इसमें गर्म जल के सोतों की वजह से गर्मी रहती है। गर्मी इतनी कि मुझे इसमें घुसते ही पसीना आने लगा।


मणिकर्ण खीरगंगा यात्रा
1. मैं कुल्लू चला गया
2. कुल्लू से बिजली महादेव
3. बिजली महादेव
4. कुल्लू के चरवाहे और मलाना
5. मैं जंगल में भटक गया
6. कुल्लू से मणिकर्ण
7. मणिकर्ण के नजारे
8. मणिकर्ण में ठण्डी गुफा और गर्म गुफा
9. मणिकर्ण से नकथान
10. खीरगंगा- दुर्गम और रोमांचक
11. अनछुआ प्राकृतिक सौन्दर्य- खीरगंगा
12. खीरगंगा और मणिकर्ण से वापसी

14 comments:

  1. जिंदाबाद.. फोटो बहुत सुन्दर है..

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन विवरण और चित्रावलि!!

    ReplyDelete
  3. लगता है आपने नया केमरा खरीद लिया है. बहुत सुन्दर चित्र हैं.हम भी मजे ले रहे हैं आपके साथ. आभार.

    ReplyDelete
  4. @यह क्या है? baadam ?. nice post.

    ReplyDelete
  5. लाजवाब जानकारी और दिलचस्प चित्र..अच्छा लगा यहाँ आकर.
    _________________________
    अब ''बाल-दुनिया'' पर भी बच्चों की बातें, बच्चों के बनाये चित्र और रचनाएँ, उनके ब्लॉगों की बातें , बाल-मन को सहेजती बड़ों की रचनाएँ और भी बहुत कुछ....आपकी भी रचनाओं का स्वागत है.

    ReplyDelete
  6. भाई बहुत सुंदर चित्र ओर बहुत ही अच्छा विवरण लगा आप की यात्रा का, जब गुफ़ा पहाड पर है, ओर दोनो ओर से खुली होगी तो तेज हवा के कारण ठंडी तो होगी ही, लेकिन लोग जुते उतार कर क्यो जाते है?भगवान का शुकर किसी ने कोई मुर्ति वगेरा नही रख दी... वरना यह भी कोई तीर्थ स्थान बन जाता. धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. दिलचस्प चित्र........

    ReplyDelete
  8. भाई बहुत सुंदर चित्र ओर बहुत ही अच्छा

    ReplyDelete
  9. आपके ब्लॉग से बैठे बैठे ही घूमना हो जाता है।

    ReplyDelete
  10. फ़ोटू घणे चोखे हैं भाई नीरज।
    इब तो अमरनाथ यात्रा के फ़ोटू का भी इंतज़ार करन लग रहे हैं।

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत फोटोग्राफी मैं भी घूमा हूँ यहाँ लेकिन इतनी सुंदर फोटो और इतना मजा ...जलन हो रही है आप से..!
    ..उम्दा पोस्ट.

    ReplyDelete
  12. सबको घुमा दिया.. पर ठंडी गुफा की तस्वीर???

    ReplyDelete
  13. सचित्र और सुंदर प्रस्तुति..नीरज जी घर बैठे ही शैर कर लेता हूँ मैं जब जब आपके ब्लॉग पे आता हूँ...धन्यवाद भाई

    ReplyDelete
  14. आपके लेखों को पढ़ कर ही हिन्दुस्तान की सैर हो जाती है. आज एक और सैर हुई.

    ReplyDelete