Buy My Book

Monday, June 15, 2009

नैनीताल के फोटो

24 मई, 2009, रविवार। भीमताल और नौकुचियाताल में घूमकर इरादा बना नैनीताल जाने का। मेरे पास अभी भी तीन घंटे थे। भीमताल से जीप पकड़ी और दस किलोमीटर दूर भवाली जा पहुंचा।


यहाँ से नैनीताल बारह किलोमीटर दूर है। बस से पहुँच गया।

नैनीताल में घुसते ही अपना सामना हुआ जाम से। एक तो पतली सी सड़क, उस पर भी पार्किंग। जाम तो लगना ही था।

अच्छा तो अब फोटो देखिये:


अच्छा तो अब चलते हैं
एक बार पहले भी नैनीताल यात्रा की है। पढने के लिये यहां क्लिक करें


भीमताल नैनीताल यात्रा श्रंखला
3. नैनीताल के फोटो

17 comments:

  1. सही घुमवा दिया राम राम वाले भाई जी!! :)

    ReplyDelete
  2. naini taal me hamari vinita ji bhe rehati hain mai to aapakee photoes me use hi dhoondati rahee vese aapki post dekh kar nainitaal jane kaa man ho gayaa hai aabhaar

    ReplyDelete
  3. बढिया है!घूमो, मस्त मज़ा लो।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर. यादें ताजा करवा दी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. तस्वीरों से ही नैनीताल घुमवा दिया आपने तो, वो भी जाम से निकालते हुए. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  6. हमने सुना था कि नैना देवी की अश्रुधारा से ही झील बन गयी?

    ReplyDelete
  7. किसी भी शहर को वहां के लोग बनाते या बिगाड़ते हैं दोस्त . अगर श्री नगर के मुकाबले देखो तो यहाँ क्या है ,कुछ नहीं ! मगर फिर भी यहाँ अपनापन है , बेफिक्री है , ट्रैफिक जाम के बावजूद मारा-मारी नहीं है . डल झील जैसी सडांध यहाँ नहीं है तो इसका श्रेय किसको दोगे ? ज़ाहिर है यहाँ की जनता अनुशासन को मानती है . शहर में चाहे सोने के पेड़ लगे हों मगर हवा में ही अगर देश के लिए द्रोह हो तो सारे ताल तलैय्या ज़हरीले लगते हैं .

    ReplyDelete
  8. आपके साथ घूमने में आनंद आ गया...अब कहाँ ले चलेंगे...???
    नीरज

    ReplyDelete
  9. निर्मला जी, इन फोटो में किसी को हम नहीं दिखे, विनीता जी तो क्या दिखेंगी.

    सुब्रमनियम जी, यहाँ पर देवी सती की (बायीं या दायीं) आँख गिरी थी. अब मुझे पता नहीं कि नैनी झील उसी की करामात है या कुछ और है.

    मनीष जी, बिलकुल सही कह रहे हो, अगर हवा में ही देश द्रोह घुला हो तो, देशप्रेमी क्या कर सकते हैं?

    नीरज गोस्वामी जी, अब कहाँ जाऊँगा कह नहीं सकता. जब जाऊँगा बता दूंगा. क्योंकि मुझसे कोई भी बात पचती नहीं है.

    ReplyDelete
  10. kuch samay pehle maine ye sab jagah dekhi thi. aapne sundar aur sajeev chitr liye hain. yaden taza ho gayi.

    ReplyDelete
  11. हिला दिया गरु...मुझे तो शुरु में लगा कि ये दिपांशु है...तुम तो कमाल के निकले...वधाई।

    ReplyDelete
  12. बहुत सही प्रयोग है कैमरे का। जमाये रहिये।

    ReplyDelete
  13. जीवन्त चित्रों के साथ नैनीताल अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  14. aapke saath ghumkar to hamesha hi maza aata hai....bahut khoobsurat tasvir pesh kiya hai aapne

    ReplyDelete
  15. Wow mera pyara Nainital..
    Kitna khoobsurat

    Dhanyavaad

    ReplyDelete